जिंदगी पर कविता ।अटपटी-अनोखी सी जिन्दगी। Life poetry

जिंदगी पर कविता ।अटपटी-अनोखी सी जिन्दगी-

अक्सर जिंदगी में जब हम  किसी तरीके के दुःख में  या तकलीफ में होते है और अपने  जीवन के धागों को बेहद उलझा  हुआ पाते है, तो अक्सर ये सवाल हमारे मन में आता है  की ये जिंदगी आखिर है क्या ?

बस इस सवाल को जहन में रखते हुए कुछ पंक्तियाँ मैंने कविता के माध्यम से व्यक्त की है,हालाँकि जिंदगी को चंद शब्दों में परिभाषित करना करना संभव नही है,यह बस मेरा एक छोटा सा प्रयास है ।

ये अटपटी-अनोखी सी जिंदगी….

जिंदगी पर कविता

ये अटपटी  अनोखी सी जिन्दगी

चन्द खुशियाँ पाने की होड़ जिन्दगी,

अकांक्षाओ की एक दौड़ जिन्दगी..

जरुरतो के बोझ तले दबी सी जिन्दगी,

आँखों में ख्वाहिशे भरे ओस सी चमकती जिन्दगी..

 

हर पल बदलती वक़्त की रफ़्तार सी जिन्दगी ,

किसी भीड़ में खोयी लम्बी कतार सी जिन्दगी,

चेहरे पे चेहरे लगाकर, मेले में बिकते मुखौटो सी जिन्दगी..

 

विश्वास के रिश्तो में पिरोई  जिन्दगी,

झूठे सच्चे जजबातों की कसौटी जिन्दगी.

जीत से उछलती खुश होकर चहकती जिन्दगी ,

हार से थरथाराकर गमो में सिमटी जिन्दगी..

 

पूर्ण होते ही पुरानी इच्छाए ,

नई अपेक्षाओ को जन्म देती ये जिन्दगी..

सुख- सुविधा की चाह में जूझती ये जिन्दगी,

मात्र खुद को समय न दे पाती ये जिन्दगी..

ये अटपटी  अनोखी सी जिन्दगी….

 

 Click on the link To read more hindi poems

 

 

 

About the author

Deepmala Singh

View all posts

6 Comments

  • You described life beautifully mala…
    It’s really hard to describe in few lines but u did it beautifully 😃.
    Just wow I can say!

    I like to give my bold right check✔️ to last line of this poem 🙂 superb!!! Keep posting your thoughts!
    Waiting for next once……

  • Baat to sahi hi hai.ki akhir hai kya ye jindgiii.lgta hai ki kal hi to chote thy aj kitne bade kese ho gye kiu ho gye.lgta hai ki kal hi ki to baat hai.jb ham school jya krte thy.aj itne bade hogye ki bacche ab school jyege.that is called jindgi .bs itna hi bol sakti hu.ki .har pal yaha ji bar jioo jo hai sam kal ho na hooo.thq mala jindgi ke baare me itni pyari kavita ke liye.thq☝👌👌😇

  • ये अटपटी और अतृप्त जिंदगी।
    और अधिक की चाह में खुद ही से जूझती जिंदगी।
    नियति के इशारों पे पल – पल नाचती ये जिंदगी।
    हर क्षण हमसे कहती यही जिंदगी
    न तू रुक ना मै रुकुंगी और ना वक्त रुकेगा
    बदलेगा तू, बदलेगा वक्त और बदलेगी जिंदगी
    क्यूँकि चलती का नाम जिंदगी, बढ़ती का नाम जिंदगी
    है अटपटी जरूर पर उम्मीद पर कायम ये जिंदगी
    खूबसूरत सी जिंदगी, खूबसूरत सी जिंदगी।।

  • Kya baat hai mala… Tumne toh zindagi ko perfect definition de di yaar.. Itni rahasyamai cheez ko Itni aasani se samjhaya ..isse padhne ke baad toh mudra bhi Ek baar aur zindagi maang le uperwale se aur hara hua aadmi bhi zeet hasil kar le.. Keep it up dear🎩
    😁
    👕👍Great!
    👖

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *